जैसलमेर स्थित संघ कार्यालय ‘तनाश्रम’ में 28.11.2017 को सर्वसमाज का स्नेहमिलन आयोजित हुआ, जिसमें माननीय संघप्रमुखश्री द्वारा उपस्थित जनों को निःशुल्क ‘यथार्थ गीता’ का वितरण किया गया। गीता का महत्त्व बताते हुए उन्होंने कहा कि गीता हमारे लिए श्रेष्ठता की ओर बढ़ने हेतु मार्गदर्शक की भूमिका निभाती है। यह अन्धकार से प्रकाश की ओर, अज्ञान से ज्ञान की ओर ले जाने वाली है। यह किसी जाति या सम्प्रदाय तक सीमित न होकर मानव-मात्र का कल्याण करने वाला ग्रन्थ है। महाभारत के समय किंकर्त्तव्यविमूढ़ अर्जुन को दिया गया भगवान श्रीकृष्ण का यह सन्देश हमारे लिए आज भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि हमारी दशा भी अर्जुन के समान ही है। बार-बार पढ़ने से गीता समझ में आती है, इसलिए ‘यथार्थ गीता’ को बार-बार पढ़ते रहे।
इसके अतिरिक्त राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, डाइट एवं बार एसोसिएशन जैसलमेर में भी संघप्रमुखश्री के सान्निध्य में गीता वितरण कार्यक्रम आयोजित हुए।

Share