बीकानेर स्थित बीदासर हाउस में आज 13 फरवरी को श्री क्षत्रिय युवक संघ के कर्मचारी प्रकोष्ठ तथा व्यवसायी प्रकोष्ठ के तत्वावधान में एक दिवसीय युवा मार्गदर्शन एवं संवाद कार्यशाला का आयोजन हुआ। कार्यशाला में वरिष्ठ आर.ए.एस. अधिकारी महेन्द्र सिंह गिराब ने युवाओं को संबोधित करते हुए उन्हें प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करने के गुर बताए। उन्होंने विभिन्न उदाहरण देते हुए बताया कि किस प्रकार लक्ष्य निर्धारण कर पूर्ण मनोयोग से प्रयास करने पर सामान्य आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक पृष्ठभूमि वाले समाज बंधु अधिकारी बने हैं। उन्होंने बताया कि हम अपने अभावों को ताकत बनायें तो वे हमारे लिए सफलता की सीढ़ी बन सकते हैं। साफ्टवेयर इंजीनियर एवं राजनैतिक सामाजिक कार्यकर्त्ता यशवर्द्धन सिंह झेरली ने RTI के संबंध में युवाओं को जागरूक करते हुए कहा कि इसके माध्यम से हम किस प्रकार समस्त प्रकार की सूचना प्राप्त कर के आमजन की सहायता कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह धरती हमारे पुरखों की संपत्ति थी इसके प्रति रागात्मक संबंध अपना कर व्यवस्था में उपलब्ध साधनों द्वारा इसका रक्षण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि व्यवस्था से लड़ने के लिए व्यवस्था में उपलब्ध सब साधनों व मुद्धों की पर्याप्त समझ एवं अध्ययन आवश्यक है अन्यथा हमें पीछे खिसकना पड़ता है। उपस्थित युवाओं ने प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी एवं RTI के संबंध में अपनी जिज्ञासाएं सामने रखी जिनका समाधान दोनों अतिथियों ने मिलकर किया। विभिन्न प्रश्नों का उत्तर देते हुए बताया गया कि पढ़ाई के समय किस स्तर पर क्या पढ़ना चाहिए, संपर्क पोर्टल के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। बीकानेर क्षेत्र के केन्द्रीय कार्यकारी गजेंद्र सिंह आऊ ने युवाओं से आलस्य त्याग कर लक्ष्य-साधन हेतु श्रम में जुट जाने का आह्वान किया। उन्होने कहा कि क्षत्रिय को कभी अपने दायित्व निर्वहन में संतुष्ट नहीं होना चाहिए। कार्यशाला का संचालन करते हुए संघ के केन्द्रीय कार्यकारी रेवन्त सिंह पाटोदा ने उपस्थित युवाओं को संघ का परिचय देते हुए उन्हें संघ से सक्रिय रूप से जुड़कर संघ को नजदीक से जानने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने समझाया कि संघ किस प्रकार गीता में वर्णित क्षत्रिय के सातों गुणों को व्यावहारिक रूप से स्वयंसेवकों के व्यक्तित्व में भरने का कार्य करता है। कार्यशाला में बीकानेर क्षत्रिय सभा के अध्यक्ष बजरंग सिंह रोयल सहित अनेक वरिष्ठ जन भी उपस्थित रहे।
कार्यशाला में आये युवा सकारात्मक रूप से प्रोत्साहित होकर गये।

Share