श्री क्षत्रिय युवक संघ के तृतीय संघप्रमुख पूज्य नारायणसिंह जी रेडा की 79वीं जयन्ती 30 जुलाई को थी। उनकी जयन्ती के उपलक्ष्य में देशभर में स्वयंसेवकों व समाजबंधुओं द्वारा उत्साह पूर्वक कार्यक्रम आयोजित किए गए। जयपुर में केंद्रीय कार्यालय ‘संघशक्ति भवन’ में माननीय संघप्रमुख श्री के सान्निध्य में समारोह आयोजित हुआ। संघप्रमुख श्री ने उपस्थित समाजबंधुओं को संबोधित करते हुए कहा कि किसी भी महापुरुष की जयन्ती मनाने का महत्त्व तभी है जब हम उन महापुरुष को अपने जीवन में प्रवेश करने दें। हम भी नारायणसिंह जी की भाँति अपने जीवन को बदलें तथा जैसे उन्होनें तनसिंहजी की सेवा में स्वयं को लगाया वैसे हम भी अपने को समाज की सेवा में नियोजित कर दें तभी इस जयन्ती मनाने की सार्थकता है। कार्यक्रम में शहर में रहने वाले समाजबंधु सपरिवार सम्मिलित हुए।
इसी प्रकार गुजरात में अहमदाबाद शहर प्रांत की सभी शाखाओं ने मिलकर मेघाणी नगर में पूज्य श्री नारायण सिंह जी की जयन्ती वरिष्ठ स्वयंसेवक श्री अजीत सिंह जी धोलेरा के सान्निध्य मे मनाई। कार्यक्रम की शुरुआत प्रार्थना के साथ हुई, तत्पश्चात श्री महावीर सिंह जी हरदासकाबास ने श्री क्षत्रिय युवक संघ का परिचय दिया। श्री अजीत सिंह जी धोलेरा ने पूज्य श्री नारायण सिंह जी के जीवन चरित्र की विस्तार से जानकारी दी तथा कहा कि पूज्य श्री तन सिंह जी के बताये मार्ग पर चलकर श्री नारायण सिंह जी ने अपने जीवन को सार्थक बनाया है, वही संघ रूपी मार्ग हमारे पास भी है। हमें भी संघ के अनुकूल आचरण बनाकर जीवन को सार्थक बनाना चाहिए।
बाड़मेर शहर प्रान्त का जयन्ती कार्यक्रम तनसिंह जन कल्याण संस्थान के तत्वावधान में राजपूत सभाभवन गांधीनगर बाड़मेर में आयोजित हुआ जिसमें संभाग प्रमुख श्री कृष्ण सिंह रानीगांव उपस्थित रहे। उन्होंने उपस्थित स्वयंसेवको से कहा कि यदि हम नारायणसिंह जी की निष्ठा के हजारवें अंश को भी अपने में उतार पाये तो हमारा जीवन सार्थक हो जाएगा। निष्काम रूप से समाजसेवा में जुट जाना ही उनको सच्ची श्रद्धांजलि होगी। बाड़मेर के ही चौहटन में न्यू विरात्रा मॉडर्न होस्टल में समारोह पूर्वक नारायणसिंह जी की जयन्ती मनाई गई जिसमें वरिष्ठ स्वयंसेवक कमल सिंह जी रानीगांव व प्रांतप्रमुख उदय सिंह देदूसर उपस्थित रहे। इसी प्रकार भारतीय ग्राम्य आलोकायन आश्रम के तत्वावधान में गुड़ामालानी प्रान्त के धोरीमना मंडल में कनीरामजी का रामद्वारा में नारायणसिंह जी रेडा की जयंती मनाई गई जिसमें वरिष्ठ स्वयंसेवक प्रकाश सिंह भुरटिया व प्रांत प्रमुख गणपत सिंह बूठ उपस्थित रहे। चांधन प्रान्त में मूलाना गांव स्थित नागणेची माता मंदिर के प्रांगण में जयन्ती कार्यक्रम आयोजित हुआ जिसमें प्रांतप्रमुख श्री तारेंद्रसिंह झिंझनियाली उपस्थित रहे।
इसी प्रकार जालोर संभाग के सांचोर प्रान्त के सुरावा मंडल में नारायण सिंह जी रेड़ा की जयंती वडेसी माता मंदिर में मनाई गई जिसमें संभाग प्रमुख श्री अर्जुन सिंह देलदरी उपस्थित रहे।गणेश वंदना व प्रार्थना से कार्यक्रम की शुरुआत हुई। तत्पश्चात सभी उपस्थित समाज बंधुओं और स्वयंसेवकों ने पूज्य श्री की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए। नारायण सिंह जी रेड़ा का जीवन परिचय वरिष्ठ स्वयंसेवक श्री ईश्वर सिंह रामसर ने दिया। संभाग प्रमुख ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि नारायण सिंह जी ने संघ को प्रयोग करके समझा, उन्होंने संघ में जो भी बात मौखिक रूप से बताई उसको अपने जीवन में उतारकर स्वयं पर प्रयोग किया और यह सिद्ध किया कि संघ सम्पूर्ण योग मार्ग है। कार्यक्रम में सांचोर, रानीवाड़ा, जसवंतपुरा, भीनमाल एवं रेवदर मंडल के समाजबंधु सपरिवार सम्मिलित हुए। कार्यक्रम के पश्चात स्नेहभोज भी रखा गया।
इसी प्रकार नागौर में पूज्य श्री नारायण सिंह जी रेड़ा की जयंती कुचामनसिटी स्थित साधना संगम संस्थान के श्री आयुवान निकेतन में मनाई गई। जिसमें वरिष्ठ स्वयंसेवक श्री भगवत सिंह सिंघाना व संभाग प्रमुख श्री शिम्भु सिंह आसरवा उपस्थित रहे। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए श्री भगवत सिंह जी ने कहा कि नारायण सिंह जी रेड़ा एक आदर्श स्वयंसेवक के रुप में हम सबके लिए प्रेरणास्रोत है। श्री क्षत्रिय युवक संघ का मार्ग अपनाकर अपने जीवन को सार्थक बनाकर उन्होंने ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया जो आज हम सभी के लिए अनुकरणीय है।
मुम्बई में भारी बारिश के बीच भी स्वयंसेवकों ने उत्साहपूर्वक नारायणसिंह जी की जयन्ती मनाई। मुम्बई प्रान्त में तनेराज शाखा गिरगाँव चौपाटी, नारायण शाखा भायंदर, वीरदुर्गादास शाखा मलाड़, आयुवान शाखा ऐरोली और कल्ला रायमल्लोत शाखा कल्याण में स्वयंसेवको ने जयन्ती मनाई तथा नारायणसिंह जी को पुष्पांजली अर्जित करते हुए उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर चर्चा की।
इसी प्रकार सूरत के कोसमाडा स्थित जानकीवन फार्म हाउस में जयंती मनाई गई जिसमें वरिष्ठ स्वयंसेवक प्रवीण सिंह जी बावलियारी तथा प्रान्त प्रमुख श्री खेतसिंह चांदेसरा उपस्थित रहे। गुजरात के गोहिलवाड़ संभाग के मोरचंद मंडल की दोनों शाखाओं ने साथ मिलकर नारायणसिंहजी रेडा की जयन्ती मनाई, जिसमें लगभग 105 स्वयंसेवक उपस्थित रहे। गुजरात के भाल प्रान्त में भी वल्लभीपुर राजपूत छात्रावास, धाँधुका राजपूत छात्रावास, धोलेरा तथा भड़ियाद गांव में नारायणसिंह जी की जयन्ती मनाई गई। जोधपुर संभाग में शेरगढ़ प्रांत के श्री मंगल बाल उच्च माध्यमिक विद्यालय बेलवा की बालक एवं बालिका शाखा एवं राजगढ़ में रानी पद्मावती (बालिका) एवं महाराणा प्रताप (बालक) शाखा में भी नारायणसिंह जी की जयन्ती हर्षोल्लास से मनाई गई। उदयपुर में श्री भूपाल नोबल्स संस्थान के परिसर में जयन्ती मनाई गई जिसमें मालवा संभाग प्रमुख श्री बृजराजसिंह खारड़ा उपस्थित रहे। इसी प्रकार नारायण सिंह जी की जयंती बीकानेर में शाखा स्तर पर विजय भवन, नारायण निकेतन, पंचवटी छात्रावास, मोतीगढ़, झंझेऊ, कीरतासर आदि स्थलों पर मनाई गई। छतरगढ़ प्रान्त के मोतीगढ़ शाखा में भी जयंती मनाई गई। दिल्ली की शास्त्रीनगर शाखा में भी जयन्ती मनाई गई जिसमें प्रांतप्रमुख श्री रेवतसिंह धीरा उपस्थित रहे। शिव प्रांत के भिंयाड़ कस्बे में भी नारायणसिंह जी की जयंती समारोह पूर्वक मनाई गई, जिसमें प्रांत प्रमुख राजेंद्र सिंह भिंयाड़ उपस्थित रहे। पोकरण स्थित राजपूत छात्रावास के शाखा मैदान में भी जयन्ती समारोह आयोजित हुआ।

Share