14 से 22 अक्टूबर की नौ दिन की अवधि में श्री क्षत्रिय युवक संघ के आठ शिविर सम्पन्न हुए, जिनमें दो माध्यमिक प्रशिक्षण शिविर तथा छह प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर सम्मिलित है। सभी शिविरों के संक्षिप्त समाचार यहां प्रस्तुत है।
बाड़मेर संभाग में जूना स्थित आशापुरा मन्दिर के प्रांगण में 14 से 20 अक्टूबर तक शिविर का आयोजन हुआ, जिसका संचालन श्री महेंद्रसिंह गूजरावास ने किया। शिविर में विभिन्न छात्रावासों से शिविरार्थी सम्मिलित हुए जिनमें बाड़मेर से मोहन गुरुकुल छात्रावास, मल्लीनाथ छात्रावास, जय भवानी छात्रावास, राजपूत छात्रावास एन एच तथा चौहटन से भवानी क्षत्रिय बोर्डिंग हाउस वांकल विहार, विरात्रा होस्टल तथा जालोर से प्रताप होस्टल, बागोडा सम्मिलित है। इसके अतिरिक्त उण्डखा, जसाई, चूली आदि गांवों से भी स्वयंसेवक शिविर में सम्मिलित हुए। शिविर में 18 अक्टूबर को माननीय संघप्रमुख श्री का सान्निध्य भी शिविरार्थियों को प्राप्त हुआ। शिविर में 17 अक्टूबर को श्रद्धेय आयुवान सिंह जी की जयन्ती भी मनाई गई तथा विजयादशमी को शस्त्र व शास्त्र पूजन का कार्यक्रम भी रखा गया। श्री तन सिंह जूना व श्री नरपत सिंह उण्डखा ने व्यवस्था का जिम्मा सम्भाला। इसी प्रकार जोधपुर संभाग के शेरगढ़-बालेसर प्रान्त में अमृत नगर (बालेसर सत्तां) स्थित श्रीलाल आदर्श उच्च माध्यमिक में 15-21 अक्टूबर तक माध्यमिक प्रशिक्षण शिविर आयोजित हुआ, जिसका संचालन संघ के केंद्रीय कार्यकारी श्री प्रेम सिंह रणधा ने किया। शिविर में माननीय संघप्रमुख श्री के सान्निध्य में श्रद्धेय आयुवानसिंह जी की जयन्ती भी मनाई गई। शिविर में शेरगढ़-बालेसर, ओसियाँ, जोधपुर शहर प्रान्तों के स्वयंसेवकों के अतिरिक्त पंचवटी छात्रावास के विद्यार्थी भी सम्मिलित हुए। श्री गोकुल सिंह बालेसर ने व्यवस्था का जिम्मा संभाला। बीकानेर संभाग के नोखा कोलायत प्रान्त का प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर चारणवाला गाँव में 14 से 17 अक्टूबर तक आयोजित हुआ। शिविर का संचालन श्री खींव सिंह सुल्ताना ने किया तथा शिविर में चारणवाला, मालणसर, आशापुरा, हिन्दूपुरा आदि गांवों के बालकों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। बीकानेर संभाग में ही एक शिविर खारा गांव में स्थित सेफ राज जी महाराज मन्दिर परिसर में 19 से 22 अक्टूबर की अवधि में सम्पन्न हुआ, जिसका संचालन श्री भागीरथसिंह सेरूणा ने किया। शिविर में खारा, धालेरा, झंझेऊ, करनीपुरा, बेलासर, मेड़ी मगरा, गिगासर आदि गाँवो के युवाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। व्यवस्था में सर्वश्री विजयसिंह, सांगसिंह, गजेसिंह, लाधूसिंह, गणेशसिंह, पूनम बाबा का सहयोग रहा। इसी प्रकार पोकरण प्रांत के रामदेवरा में 17 से 20 अक्टूबर की अवधि में एक बालिका प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न हुआ, जिसका संचालन श्रीमती सीमा कंवर भुरटिया ने किया। शिविर में फलसुण्ड, भणियाणा, दांतल, अवाय, सत्याया, अजासर, छायण, सुजासा, रामदेवरा आदि गाँवो की लगभग 150 बालिकाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। सर्व श्री अमर सिंह रामदेवरा, अगर सिंह रामदेवरा भोमसिंह रामदेवरा, खींव सिंह रामदेवरा, किसन सिंह रामदेवरा ने व्यवस्था में सहयोग किया। जालोर संभाग के सांचोर-रानीवाड़ा मंडल में एक प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर करड़ा में 16 से 19 अक्टूबर तक आयोजित हुआ। करडेश्वर महादेव मंदिर के प्रांगण में आयोजित इस शिविर का संचालन संभाग प्रमुख श्री अर्जुन सिंह देलदरी ने किया। शिविर में करड़ा, करवाड़ा, दांतवाड़ा, सेवाड़ा, जाखड़ी, रतनपुर, सिणेर, सिवाड़ा, कारोला, पुर, केरिया, सुरावा, दासपां, लाछीवाड़, अचलपुर, चौरा आदि गाँवों के बालक व युवा सम्मिलित हुए। महंत श्री मैथिलीशरण जी ने समस्त ग्रामवासियों के सहयोग से व्यवस्था संभाली। अजमेर प्रांत के अंतर्गत किशनगढ़ में मझेला रोड स्थित राजपूत सभा भवन में एक प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर 14 से 17 अक्टूबर तक आयोजित हुआ, जिसका संचालन संघ के संचालनप्रमुख श्री लक्ष्मण सिंह बेन्याकाबास ने किया। शिविर में पुष्कर, केकड़ी, रूपनगढ़, अराई सहित जिले के विभिन्न क्षेत्रों से युवा सम्मिलित हुए। इसी प्रकार एक प्राथमिक प्रशिक्षण शिविर पाली जिले के देसूरी क्षेत्र में सुमेर गांव में सम्पन्न हुआ। लोहागर महादेव मंदिर के प्रांगण में 19 से 22 अक्टूबर की अवधि में आयोजित इस शिविर में बासनी, सुमेर, माडपूर, चोकङीया, मगरतलाव, आशापूरा, गूङा आसकरण, जोजावर आदि गाँवो के युवा सम्मिलित हुए। शिविर का संचालन श्री मोहब्बत सिंह धींगाणा ने किया। सर्वश्री योगेन्द्र सिंह बासनी, श्रवण सिंह गुड़ा आसकरण, श्रवण सिंह सासरी ने मिलकर व्यवस्था संभाली।

Share