समाचार

बालिका वर्ग का सप्तदिवसीय प्रशिक्षण शिविर प्रारम्भ

श्री क्षत्रिय युवक संघ का बालिका वर्ग का सात दिवसीय ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण शिविर आज 25.05.2017 से विद्या निकेतन स्कूल, चित्तौड़गढ़ में प्रारम्भ हुआ। शिविर में सायं 5 बजे स्वागत कार्यक्रम हुआ, जिसमें वरि...

अधिक जानें
आंसू नहीं अंगारे लेकर चलें

"विदा के क्षण वे कठिन क्षण होते है जब आत्मीयता तरल होकर प्रकट हो जाती है। ये जो हमारी आँखों से आंसू बहे है, हमारी युगों की पहचान के प्रमाण है। यह हमारी तन सिंह जी के प्रति, संघ के प्रति कृतज्ञता है। त...

अधिक जानें
जीवन की शाश्वत श्रृखंला में एक कडी हैं हम

"आज के समय में प्रत्येक मनुष्य समझता है कि इस जगत में वह एक पृथक इकाई है और जगत को मोढ कर सुधारकर अपनी ईच्छानुसार बदलना चाहता है। इसी प्रक्रिया में शस्त्रयुध्द, विचार युध्द आदि का जन्म होता है। किन्तु...

अधिक जानें
क्षत्रिय अपना उत्तरदायित्व समझें

"भारत के मनीषियों ने मानव मन, उसके संवेगों, प्रवृतियों स्वाभाव आदि के आधार पर पूर्णत: वैज्ञानिक वर्ण व्यवस्था को अपनाया था जो ईश्वरीय विधान के अनुरूप थी| युग के प्रभाव में आकर चारों वर्णों ने अपना उत्...

अधिक जानें
अलक्षित सौन्दर्य को देखें

"दूसरों के दोषों को देखना एक चारित्रिक दोष है, जिससे स्वयंसेवक को यत्नपूर्वक बचना चाहिए| हमारे स्वयं के भीतर और बाहर संसार में भी, कितना ही सौन्दर्य और श्रेष्ठताएँ अलक्षित पड़े है| स्वयंसेवक को अपनी दृ...

अधिक जानें
हमारा जीवित समाज

"सांस्कृतिक मान्यताएँ, संवेदना और पीड़ा, स्वधर्म की मान्यता, मान बिन्दुओं के प्रति सम्मान, जिजीविषा, प्रतिशोध की भावना आदि जीवित समाज के लक्षण है| क्षत्रिय युवक संघ ने भली भांति परीक्षण करके यह निश्चित...

अधिक जानें
अहं साधना का प्रबल शत्रु

"अहंकार का उद्गम अज्ञान से है, यद्यपि उसका दावा ज्ञान का है| अहं अनेक रूपों में प्रकट होकर प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष आक्रमण द्वारा हमारी साधना को नष्ट करने का प्रयत्न करता है| अहं का सामाजिक स्वाभिमान...

अधिक जानें
शिविर में हुआ यज्ञोपवीत संस्कार

पुष्कर में आयोजित हो रहे श्री क्षत्रिय युवक संघ के उच्च प्रशिक्षण शिविर में आज तीसरे दिन यज्ञोपवीत संस्कार संपन्न किया गया जिसमे सभी स्वयंसेवकों ने मंत्रोच्चार के साथ नवीन यज्ञोपवीत धारण किये | इसके प...

अधिक जानें
क्या होता है स्वयंसेवक ?

"वर्तमान समय में सम्पूर्ण संसार में भिन्न - भिन्न प्रकार के दुराचार, भ्रष्टाचार, अत्याचार आदि अत्याधिक बढ़ रहे है जिसका मूल कारण क्षात्र वृति के पालन से क्षत्रिय का पीछे हटना है| क्षत्रिय के स्वधर्म पा...

अधिक जानें
श्री क्षत्रिय युवक संघ का उच्च प्रशिक्षण शिविर प्रारम्भ

"श्री क्षत्रिय युवक संघ के शिविरों में हम प्रशिक्षण प्राप्त करने और ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते है| अनेक वर्षों से नियमित रूप से यह प्रशिक्षण हम प्राप्त कर रहे है| क्षत्रिय युवक संघ हमको जो सीखा रहा...

अधिक जानें